About Me

I love life, and am proud to be the most wonderful creation of God. You got it, "HUMAN BEING". Had I been a flower, fish or a bird, I must not been writing this......

Wednesday, December 05, 2012

परछाईयाँ


सौतेली बहन के जैसे तरसाती है धूप मुझे
कहती है हर दिन दूंगी गर्माहट तुझे
हर दिन संग लाती है कुछ बादल,
ये बादल तरसाते हैं मुझे।

कुछ दिनो से नाउमीदी भी पीछा कर रही है,
साथ बिठा कर मेरी किस्मत के गिट्टों से खेलती है,
खुशियों को भी खेलना पसंद है ,
आँख मिचौली खेल रही हैं मुझसे।

कुछ सांप से सरकते हुए गयी हैं लकीरें
माथे पर सिलवटों के जैसे,
ये जो सीने पर रखी हैं बोझ बन कर,
तो दिल में दरारे सी पड़ गयीं हैं।

तुम ज़रा एक मटका तो भर दो
थोड़ा ठंडा हो जाए
गर्म आंसू पीते-पीते छाले पड़ गए हैं दिल में।

एक ज़रा जोर से जो सांस ली मैंने,
आंसुओं की मटकी फूट गयी,
दम घुटने के लिए यादें काफी हैं अभी……

Saturday, October 13, 2012

Happy Birthday

Dear Friend,

In whichever timezone you are,
Which ever life time you are,
amid the cosmic rays and
celestial dust.....

Wish you countless & boundless happiness!!

Friday, September 14, 2012

Chat List

The Chat list in my browser,
friends coming n going.

Greens, Reds, and Oranges,
Up & Downs, 
High & Low,
Keep shuffling places.

"Available" as they seem,
Laughter  & sorrow then we share.

"Busy" with their chores,
Reachable still they are.

"Idle" as they are,
Silence then we share.

In the browser of Life,
a friend went offline....

Thursday, September 13, 2012

कहने सुनने को नहीं है कुछ अगर, 
तो सन्नाटों को बात करने दो,
इशारों को चहकने दो, 
खाव्हिशों को उड़ने दो ज़रा।
ज़रा कह दो इन यादों से, कुछ देर और खामोश रहें ,
ये जो उठती हैं बवंडर की तरह, मेरे ज़ख्मों को रुई के फाए  से सेहेला जाती हैं !

Wednesday, September 12, 2012

I Wish!

I wish you bright mornings,
I wish you happy days.
I wish you enchanting evenings,
I wish you peaceful ways.

I cant promise to take away your sorrows.
I cant assure to wash away your pain.
Only, I wish!
My shoes fit your size,
when you walk a long way,
you can cuddle up in mine.

I have enough to offer you.
I have nothing to offer you.
Only, I wish!
I fill the glass with happiness,
when you feel Life at brink,
you get enough to drink.

You save my thoughts with you,
I keep yours with me.
For we have nothing,
but the power to "Wish"!

Monday, September 10, 2012

दीवारें

ये जो परतें गिर रही हैं इनसे,
फटे पर्दों के टुकरे हैं.
अब, इन दीवारों से कुछ कहा ना करो,
इनके कान बंद हो गए हैं.

ये जो धब्बे छिटके हुए हैं इन पर,
सूख चुके हैं.
अब, इनसे सर पीटा ना करो,
इन्हें दर्द का एहसास नहीं होता.

खंडहर के हिस्से की
धड़कन सुनाई देती है इनसे,
अब, इनसे गले लगा ना करो,
इनके दिल में दरार पड़ गई है.

Friday, August 17, 2012

Delicacy of Emotions

Delicacy of emotions,
Marinated in syrup of words,
Whisked with sweet nothings,
Mixed with tangy mischief,
Baked over warmth of our breaths,
Garnished with sour memories,
Laced with shimmer of smiles
Spread on the pan of Life,

Ah!! my friend or foe
I savour the taste of
our relationship!!

Wednesday, August 08, 2012

झूला

तुम बस इतना कर दो,
नीम के पेड़ की
सबसे ऊँची डाल जो है,
उस पर एक झूला डाल दो.
वही नीम का पेड़ जो,
सावन में मेरी खिड़की के अन्दर झांकता था,
जिसकी मीठी निम्बोरी मेरे आँगन में बिखरी रहती थीं,
बहुत आँख दिखाई है मैंने उसे,
पतझड़ के मौसम में.

तुम बस इतना कर दो,
नीम के पेड़ की
सबसे ऊँची डाल जो है,
उस पर एक झूला डाल दो.
बादल का छल्ला बना कर,
ज़रा उंगली में पेहन लूँ,
बहुत बार एड़ियों से धक्का दिया है आसमान को,
झूले पर उचक कर बैठे हुए.

तुम बस इतना कर दो,
नीम के पेड़ की
सबसे ऊँची डाल जो है,
उस पर एक झूला डाल दो......

Wednesday, July 18, 2012

मुख़तसर

बातों का सिलसिला जारी रहा... 
वो ही मिलने की बेकरारी,
वो ही बातों की खुमारी..
वो ही बेइन्तेहा मुहब्बत का इकरार,
और सुर्ख यादों की चादर पे तेरा इंतज़ार..
 तुझको ढूंढा नहीं है यादों में,
तुझको पाया है सिर्फ आंसुओं में...
फर्क सिर्फ इतना है की
अब.... 
बातों का सिलसिला, 
सिर्फ खुद से ही जारी है 

Tuesday, July 17, 2012

Continuity


When dreams corrode, Life rots,
When Life rot, happiness withers,
When happiness wither, moments shrivel
When moments shrivel, death is inevitable...

Tuesday, June 12, 2012

Desire



All day long,
I could see you.

As you left, 
butterflies went back in cocoon.

I gaze you from far, 
your beauty,
as seductive as ever.

Never have I told you, 
the quantity,
surely, the sea is less than my love.

Moments slipped,
as you went away.
Love sublimed.
Memories vanished.

All I have is,
Longing for you!!!


Wednesday, March 21, 2012

दुलार

कभी मोर की,
कभी खरगोश की,
रोटी बनाती थीं,
माँ! तुम कितना मुझे बहलाती थीं.

नींद में
प्यार से निवाले खिलातीं थीं
माँ! तुम कितना मुझे बहलाती थीं.

छुपन-छुपाई के खेल में,
अपने आँचल में छुपा लेती थीं,
माँ! तुम कितना मुझे बहलाती थीं.

जब पक जाते थे मेरे कान,
सोने के बुन्दों से,
चंदा कह के,
चांदी की बाली पहनाती थीं,
माँ! तुम कितना मुझे बहलाती थीं.

मोम से,
अपनी फटी एड़ियाँ भरती थीं,
लेकिन,
मेरे चहरे पे मलाई लगाती थीं,
माँ! तुम कितना मुझे बहलाती थीं.

जब बुरे सपने से उचटती थी नींद मेरी,
मुट्ठी के नमक से मेरा डर घुलवाती थीं,
माँ! तुम कितना मुझे बहलाती थीं.

कहते सुना था मैंने तुमको,
सुबह के सपने सच होते हैं,
मैंने देखा खुदको तुम्हारे आँचल में दुबके, 
माँ! क्या अब भी बहलाती हो मुझको ?

Tuesday, March 06, 2012

Strokes!!

Once you told me, 
you need nothing but me,

Tangled threads of rules and desire,
threw me in eternal fire,

Absconding me, from your memories,
they are nothing but accessories,

Deleted you from technology support,
heart's ROM will I soon transport,

Moments slipped as drops from eyes,
wonder I, do they still spy?

Clinging to my soul in fright,
now I know direction right,

Trail of blood show me am walking,
So peeled I scab from wounds healing....

Written on: Nov. 10th 2011 here 

Monday, March 05, 2012

Make a fresh start

They always say, "make a fresh start";

Whenever something happens,
or DOESNT happen,
They say "make a fresh start";

By end of failed, toiled, loathing night,
they say "make a fresh start";

Do I have a RAM fitted in,
that resets everything within;

Or do they think the bath,
washes the memory path;

Or do they want me to be desirous,
reach the dreams posthumous;